Visit Our Website: https://www.lifewithyeshumasih.in Visit Our Website: http://www.lifewithyeshumasih.ooo/

Like Us On Facebook: https://www.facebook.com/lifewithyeshumasih/

Twitter: https://twitter.com/yeshumasih

Whatsapp No: 9888745667

Paytm No: 9888745667

UPI: 9888745667@paytm

#Biblestories

Photos By FreeBibleImages.org

https://creativecommons.org/licenses/by-sa/4.0/

यूसुफ के भाइयों की नफरत | Bible Stories | Life With Yeshu Masih

1 याकूब तो कनान देश में रहता था, जहां उसका पिता परदेशी हो कर रहा था।
2 और याकूब के वंश का वृत्तान्त यह है: कि यूसुफ सतरह वर्ष का हो कर भाइयों के संग भेड़-बकरियों को चराता था; और वह लड़का अपने पिता की पत्नी बिल्हा, और जिल्पा के पुत्रों के संग रहा करता था: और उनकी बुराईयों का समाचार अपने पिता के पास पहुंचाया करता था:
3 और इस्राएल अपने सब पुत्रों से बढ़के यूसुफ से प्रीति रखता था, क्योंकि वह उसके बुढ़ापे का पुत्र था: और उसने उसके लिये रंग बिरंगा अंगरखा बनवाया।
4 सो जब उसके भाईयों ने देखा, कि हमारा पिता हम सब भाइयों से अधिक उसी से प्रीति रखता है, तब वे उससे बैर करने लगे और उसके साथ ठीक तौर से बात भी नहीं करते थे।
5 और यूसुफ ने एक स्वप्न देखा, और अपने भाइयों से उसका वर्णन किया: तब वे उससे और भी द्वेष करने लगे।
6 और उसने उन से कहा, जो स्वप्न मैं ने देखा है, सो सुनो:
7 हम लोग खेत में पूले बान्ध रहे हैं, और क्या देखता हूं कि मेरा पूला उठ कर सीधा खड़ा हो गया; तब तुम्हारे पूलों ने मेरे पूले को चारों तरफ से घेर लिया और उसे दण्डवत किया।
8 तब उसके भाइयों ने उससे कहा, क्या सचमुच तू हमारे ऊपर राज्य करेगा? वा सचमुच तू हम पर प्रभुता करेगा? सो वे उसके स्वप्नों और उसकी बातों के कारण उससे और भी अधिक बैर करने लगे।
9 फिर उसने एक और स्वप्न देखा, और अपने भाइयों से उसका भी यों वर्णन किया, कि सुनो, मैं ने एक और स्वप्न देखा है, कि सूर्य और चन्द्रमा, और ग्यारह तारे मुझे दण्डवत कर रहे हैं। ……………………………………………………………………………. Read उत्पत्ति – अध्याय 37 Se उत्पत्ति – अध्याय 48 Tak
God Bless You All

source

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here